Marudhar Desk: देश में बढ़ रहे कोरोना वायरस के नए ओमिक्रॉन वैरिएंट के खतरे के बीच अब देश में 15 से 18 साल के बच्चों का वैक्सीनेशन शुरू होने जा रहा है। देश में लगातार बढ़ रहे कोरोना के नए वैरिएंट ओमिक्रोन के संकट के बीच अब 15 साल से ऊपर के बच्चों का वैक्सीनेशन 3 जनवरी से शुरू होगा। बच्चों के लिए भारत बायोटेक की कोवैक्सीन और जायडस कैडिला की जायकोव-डी को मंजूरी मिल चुकी है। अगले हफ्ते से बच्चों का वैक्सीनेशन शुरु हो जाएगा। बता दें कि 3 जनवरी से 15 से 18 साल के बच्चों को ही कोरोना की वैक्सीन लगाई जाएगी। उससे छोटी उम्र के बच्चों के वैक्सीनेशन पर सरकार ने फैसला नहीं लिया है। वहीं, ड्रग्स कंट्रोलर ने भारत बायोटेक की कोवैक्सीन को 12 से 18 साल की उम्र के बच्चों पर इमरजेंसी इस्तेमाल की मंजूरी भले ही दे दी है, लेकिन सरकार ने अभी 15 से 18 साल के बच्चों का वैक्सीनेशन ही शुरू करने का फैसला लिया है। दुनिया के कई देशों में बच्चों को कोरोना की वैक्सीन लगाई जा रही है। बच्चों पर वैक्सीन असरदार साबित हुई है। इसी साल 2 से 18 साल के बच्चों पर भारत बायोटेक ने कोवैक्सीन का ट्रायल किया था। बताया गया कि बच्चों पर वैक्सीन असरदार साबित हुई है। वहीं, वैक्सीन के अभी तक कोई भी बड़े साइड इफेक्ट्स सामने नहीं आए हैं। हालांकि, बताया जा रहा है कि वैक्सीन लगने के बाद बुखार, बदन दर्द, इंजेक्शन वाली जगह पर सूजन जैसे साइड इफेक्ट्स हो सकते हैं। वैक्सीनेशन के लिए रजिस्ट्रेशन जरूरी होगा। वैक्सीनेशन के लिए बने Cowin प्लेटफॉर्म से इसका रजिस्ट्रेशन कराया जा सकेगा। बच्चों के वैक्सीनेशन के लिए रजिस्ट्रेशन कब से शुरू होगा, इसकी जानकारी सरकार की ओर से नहीं दी गई है।