Jaipur: पूरे देश में कोरोना महामारी के नए वैरिएंट ओमिक्रोन का खतरा बना हुआ है। अब ये खतरा लगातार बढ़ता ही जा रहा है। जिस तरह से राजधानी जयपुर में पिछले समय से लगातार रैलियां और कार्यक्रम आयोजित किए जा रहे है उससे गुलाबी नगरी समेत पूरे प्रदेश में तीसरी लहर का संकट खड़ा हो गया है। कोविड के बढ़ते मामले अब सरकार के लिए चिंता का सबब बनते जा रहे है। वहीं, अब सरकार भी एक्टिव मोड़ में आ गई है। कोरोना के नए वैरिएंट ओमिक्रॉन के खतरे के बीच राजस्थान में अब कोरोना वैक्सीन लगवाना अनिवार्य होगा। कोरोना के बढ़ते केस के मद्देनजर बुलाई गई रीव्यू मीटिंग में मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने कहा है कि प्रदेश में कोरोना की वैक्सीन लगवाना अनिवार्य किया जाए। इसके साथ ही अब राजस्थान में नाइट कर्फ्यू और मास्क को लेकर सख्ती बरती जएगी। मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने अधिकारियों को निर्देश दिए है कि वे मास्क नहीं पहनने, नाइट कर्फ्यू की पालना नहीं करने वालों पर सख्ती करना शुरू कर दे और तीन-चार दिन चेतावनी देने के बाद इस पर सख्ती करना शुरु कर दें। गहलोत ने कहा कि लोग कोरोना की दूसरी लहर में जो तबाही मची उसका दर्द अभी भूले नहीं भूले है। अब ऐसे हालात पैदा न हो इसलिए बचने के लिए हमें यह करना चाहिए। गहलोत ने बैठक में कहा कि जिस तरह तमिलनाडु, पंजाब ने वैक्सीनेशन अनिवार्य कर दिया है, उसी तरह हमें भी वैक्सीन अनिवार्य करनी पड़ेगी। कोई भी व्यक्ति वैक्सीन लगवाने से इंकार नहीं कर सकता, ये उसका अधिकार नहीं है। हमें इसे अनिवार्य करना ही पड़ेगा। हमने जब मास्क लगाने का कानून पास किया तो वैक्सीन को भी अनिवार्य कर सकते है।