मरूधर बुलेटिन न्यूज डेस्क। शुक्रवार को सिंधु बॉर्डर पर हुई हिंसा के बाद अब एक बार फिर से किसान बॉर्डर पर किसान आंदोलन को सुचारू रखने के लिए जुटने लगे है। साथ ही २६ जनवरी को लाल किले पर हुई हिंसक घटना के बाद किसान वापिस लौटने लगे थे। लेकिन किसान नेता राकेश टिकैत ने भावुक संदेश दिया और किसान फिर से बॉर्डर पर डेरा डालते नजर आ रहे है। बहरहाल इसी बीच बता दें कि 26 जनवरी की हिंसा पर दुख प्रकट करते हुए किसान राष्ट्रपिता महात्मा गांधी की पुण्यतिथि को सद्भावन दिवस के रूप में मनाएंगे और उपवास रखेंगे।

jj 4

सूत्रों से मिल रही जानकारी के अनुसार किसान नेताओं ने दिल्ली के सिंघू बॉर्डर पर एक संवाददाता सम्मेलन को संबोधित करते हुए कहा कि सुबह 9 बजे से शाम 5 बजे तक उपवास रखा जाएगा। साथ ही उन्होंने देश के लोगों से किसानों के साथ जुडऩे की अपील की। बहरहाल इसी बीच बता दें कि उत्तर प्रदेश के मुजफ्फरनगर जिले में शुक्रवार को किसानों की महापंचायत हुई। इसमें फैसला किया गया कि मुजफ्फरनगर और पश्चिमी यूपी के अन्य जिलों से किसान शनिवार को दिल्ली की तरफ कूच करेंगे। महापंचायत में सियासी दलों के नेता भी पहुंचे। इस दौरान राष्ट्रीय लोक दल (आरएलडी) के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष जयंत चौधरी और आम आदमी पार्टी के राज्यसभा सांसद संजय सिंह ने भी मंच साझा किया था।

jjj 2

साथ ही बता दें कि हरियाणा सरकार ने 30 जनवरी की शाम 5 बजे तक कई जिलों में इंटरनेट सेवाओं पर रोक लगा दी है। जिनमें अंबाला, यमुनानगर, कुरुक्षेत्र, करनाल, पानीपत, हिसार, जींद, रोहतक, भिवानी, रेवाली और सिरसा सहित कई जिले में इंटरनेट सेवाएं बंद रहेंगी।