मरूधर बुलेटिन न्यूज डेस्क। संयुक्त किसान समन्वय समिति के प्रतिनिधि नवीन श्रृंगी ने बताया कि शुगर मिल के पुनः संचालन की मांग को लेकर क्षेत्रीय युवा किसान नेता गिर्राज गौतम ने प्रदेश सरकार द्धारा शुगर मिल संचालन कि घोषणा को लेकर कोई सकारात्मक वार्ता नहीं करने से नाराज होकर अनशन शुरू कर दिया। गिर्राज गौतम ने कहा कि कहा कि क्षेत्र के युवाओं एवं किसानों की जीवनदायिनी शुगर मिल के पुनः संचालन की मांग को लेकर क्षेत्रीय युवा एवं किसान पिछले 22 दिनों से शुगर मिल चौराहे पर अनिश्चितकालीन धरने पर बैठे हुए हैं। लेकिन अभी तक सरकार की ओर से कोई वार्ता नहीं की गई, नाही मिल संचालन के बारे में कोई घोषणा की। इसीलिए आज से वह अनशन पर बैठे हैं। उन्होंने कहा कि अब या तो सरकार मिल संचालन को लेकर कोई सकारात्मक वार्ता करें नहीं तो अनशन जारी रहेगा। गिर्राज गौतम के अनशन पर बैठने से क्षेत्रीय युवाओं किसानों में रोष व्याप्त हो गया है। बुधवार को धरना स्थल पर सैकड़ों की संख्या में अनशन को समर्थन देने लोग पहुंचे। साथ ही इस दौरान शुगर मिल चौराहे के व्यापार संघ ने दुकानें बंद कर आंदोलन मैं जाने का निर्णय लिया। कोटा के युवाओं द्वारा शुगर मिल के समर्थन में सोशल मीडिया पर मिशन चलाया जा रहा है। क्षेत्रीय युवाओं ने कहा कि सरकार की संवेदनहीनता के कारण अगर युवा साथी की गिर्राज गौतम में कुछ हुआ तो उसकी जिम्मेदारी सरकार एवं प्रशासन की होगी। एक बड़े आंदोलन की रणनीति भी बनाई जा रही है। आज कोटा, बूंदी सहित झालावाड़ के युवाओं ने भी अनशन स्थल पर पहुंचकर समर्थन जताया। सुबह गणेश मंदिर एवं गुरुद्वारा में मत्था टेक गिर्राज गौतम ने अनशन शुरू किया। इस अवसर पर किसान नेता राम कल्याण मीणा, सूरजमल नगर भवरलाल चौधरी, रूप शंकर, सुमन नंद, बिहारी मीणा, निर्मल सिंह, राजेंद्र मीणा झालावाड़ से समर्थन देने आए दुर्गेश, गौतम, मनोज शर्मा, मिहिर शर्मा ब्राह्मण कल्याण परिषद के अनिल तिवारी ने एक स्वर में कहा कि सरकार को तुरंत किसानों एवं युवाओं से बात करनी चाहिए अन्यथा आंदोलन उग्र रूप भी ले सकता है।