मरूधर बुलेटिन न्यूज डेस्क। हर वर्ष की भांति इस बार मंगलवार को देश राष्ट्र पर्व गणतंत्र दिवस मनाने की तैयारी कर रहा है। देश मंगलवार को 72वां गणतंत्र दिवस मनाएंगा। वर्ष 1950 को भारत सरकार अधिनियम (एक्ट) (1935) को हटाकर भारत का संविधान लागू किया गया था। बता दें कि एक स्वतंत्र गणराज्य बनने और देश में कानून का राज स्थापित करने के लिए संविधान को 26 नवम्बर 1949 को भारतीय संविधान सभा द्वारा अपनाया गया और 26 जनवरी 1950 को इसे एक लोकतांत्रिक सरकार प्रणाली के साथ लागू किया गया था।

ff 1

बहरहाल इसी बीच बता दें कि 72वें गणतंत्र दिवस को दिल्ली में होने वाली परेड बहुत खास होने वाली है। जानकारी के अनुसार गणतंत्र दिवस परेड में पहली बार बांग्लादेश की सेना शामिल होने जा रही है। बांग्लादेश की आजादी के 50वीं वर्षगांठ को देखते हुए परेड में बांग्लादेश की सेना शामिल हो रही है। बांग्लादेशी सेना में सशस्त्र बलों के तीनों अंगों (थल सेना, वायुसेना और नौसेना) के सदस्य शामिल किए गए हैं। गौरतलब है कि इससे पहले 2016 में फ्रांस की सैन्य टुकड़ी ने हिस्सा लिया था।

tec

साथ ही इस बार का गणतंत्र दिवस इसलिए भी खास है क्योंकि किसान दिल्ली में ट्रैक्टर रैली निकाल रहे है। जानकारी के अनुसार ये परेड कृषि कानून के विरोध में जारी किसान आंदोलन का ही हिस्सा है। दिल्ली पुलिस ने सिंधु, टिकरी और गाजीपुर बॉर्डर से किसान संगठनों को सशर्त परेड निकालने की इजाजत दी है, लेकिन किसान संगठन उस रूट से खुश नहीं हैं जो पुलिस ने दिया है। नए कृषि कानूनों के विरोध में निकाली जाने वाली इस रैली के लिए पूरे देश से किसान दल दिल्ली पहुंच रहे हैं। किसान यूनियनों ने दावा किया है कि परेड शांतिपूर्ण रहेगी। साथ ही सूत्रों के मुताबिक, रविवार की रात तक टीकरी, सिंघु और गाजीपुर बॉर्डर पर करीब 20 हजार ट्रैक्टर पहुंच चुके हैं। किसान नेताओं का दावा है कि 26 जनवरी की सुबह तक एक लाख ट्रैक्टर आ जाएंगे।