चाकसू गर्मी की दस्तक के साथ ही ग्रामीण क्षेत्रों में पेयजल समस्या अपना रंग दिखाने लगी है। चाकसू उपखण्ड क्षेत्र की ग्राम पंचायत झांपदा कला की बैरवा की ढाणी में पेयजल समस्या को लेकर ग्रामीणों ने रोष जताया। समाजसेवी लल्लू लाल भाल व ग्रामीणों ने बताया कि बैरवा की ढाणी में करीब 400 लोग निवास कर रहे हैं। लेकिन पीने के पानी की गभीर समस्या बनी हुई है । ढाणी में पेयजल व्यवस्था के लिए एक बीसलपुर का पोइंट लगा हुआ है। जिसमें 2 दिन में एक बार बहुत कम मात्रा में पानी आता है। वहीं पास में बनी जीएलआर टंकी में पहले तो पानी आता था लेकिन करीब तीन-चार साल से टंकी सूखी पड़ी है जिसके चलते हुए बीसलपुर पॉइंट ही पेयजल का एकमात्र स्रोत है ऐसे में सैकड़ों लोग पानी की सप्लाई से पहले बर्तनों की कतार लगाकर पानी भरने के लिए अपनी बारी का इंतजार करते रहते हैं पानी कम आने से कई लोगों के बर्तन खाली रह जाते हैं पेयजल समस्या के चलते लोग करीब 1 किलोमीटर दूर लगे हेड पंप से पानी लेकर आते हैं। जलमीनार और हैंडपंप शो पीस बनकर रह गए हैं। ऐसे में सरकार और विभाग का दावा छलावा साबित होता नजर आ रहा है। गांव में लगा जलमीनार और हैंडपंप जवाब दे रहे हैं। गर्मी से परेशान लोग पानी के लिए भटकने लगे हैं। झांपदा पंचायत बैरवा की ढाणी का कुछ ऐसा ही हाल है शीघ्र ही यदि पानी की समस्या का समाधान नहीं किया गया तो वो ग्रामीण दूषित पानी पीने को मजबूर होंगे। ग्रामीणों की मानें तो जानकारी होने के बाद भी पेयजल एवं स्वच्छता विभाग कानों में तेल डाल कुंभकर्णी निद्रा में सोया हुआ है। जल संकट को दूर करने को लेकर वह गंभीर नहीं है। गर्मी आने वाली है और लोग परेशान हो रहे हैं। प्रशासन को भी ध्यान देना चाहिए। लोग किस तरह प्यास बुझा रहे हैं। जिसमें संपूर्ण परिवार को लाईन मे लगना पड़ता है। पेयजल समस्या के साथ स्नान करने भी दूर जाना पड़ता है समस्या को लेकर कई बार जनप्रतिनिधियों व अधिकारियों को अवगत करा चुके हैं फिर भी समस्या जस की तस बनी हुई है। इसी के साथ आपको बता दे ग्रामीणों ने पेयजल समस्या का समाधान नहीं होने पर धरना-प्रदर्शन की सरकार को चेतावनी दे दी है।

WhatsApp Image 2021 04 03 at 4.40.06 AM 1

गर्मी की दस्तक के साथ ही ग्रामीण क्षेत्रों में पेयजल समस्या अपना रंग दिखाने लगी

WhatsApp Image 2021 04 03 at 4.40.06 AM