राजस्थान के पाली जिले से एक फर्जी आईपीएस का भांडा फूटा। यहां सिर्फ 10वीं तक पढ़ा पाली का शातिर युवक चार साल से फर्जी आईपीएस बनकर लोगों को ठग रहा था। वो भी बकायदा वर्दी पहनकर। वर्दी में भी आईपीएस के बैजेज, अशाेक स्तंभ, स्टार के बैजेज लगे हुए हैं। साथ में फर्जी आईडी कार्ड, नकली एयरगन और वाॅकी-टाॅकी. साल 2015 में कांस्टेबल की परीक्षा में पास नहीं हो सका यह बदमाश तभी से आईपीएस बनकर धौंस जमा रहा था। 

गुरुवार की रात पाली जिले के नया बस स्टैंड से पकड़ा गया आरोपी खुद को सीबीआई का एसपी बताकर ट्रैवल एजेंट पर धौंस जमा रहा था ताकि एसी बस में मुफ्त में ही मुंबई जा सके, ट्रैवल बस एजेंट की सूचना पर पहुंची पुलिस ने आरोपी फुसाराम को गिरफ्तार कर लिया गया है। उसके आईडी कार्ड पर राजवीर शर्मा पुत्र रामप्रसाद शर्मा लिखा हुआ है। आरोपी फुसाराम पाली जिले के सर्वोदय नगर का रहने वाला है।  जिले के एसपी कालूराम रावत ने बताया कि नया बस स्टैंड चाैकी प्रभारी ओमप्रकाश चाैधरी और उनकी टीम भी आरोपी काे देखकर हैरत में पड़ गई, क्याेंकि वह हुबहू आईपीएस जैसा लग रहा था। जब आरोपी फुसाराम को थाने में लाकर पूछताछ की गई तो इसने सच्चाई उगल दी।  इसके बाद आरोपी काे शुक्रवार के दिन काेर्ट में पेश किया गया, वहां से न्यायिक अभिरक्षा में भेज दिया गया है. आरोपी की वर्दी, उस पर लगे आईपीएस, अशाेक स्तंभ तथा स्टार के बेजेज, फर्जी आईडी कार्ड, नकली एयरगन समेत कई प्रतिबंधित वस्तुएं जब्त कर ली गई हैं।