कांग्रेस विधायक और पूर्व मंत्री रमेश मीणा का एक बार फिर बयान सामने आया है सदन में बोलने नहीं दिए जाने के मामले में रमेश मीणा ने कहा कि मैं अध्यक्ष का सम्मान करता हूं चाहे मुझे नीचे बैठा दे लेकिन एससी, एसटी और माइनॉरिटी विधायकों के साथ भेदभाव हो रहा है और यदि यही पर सुनवाई नहीं हो रही तो कहा पर की जाएगी उन्होंने कहा कि 50 सीटों पर माइक नहीं होना अच्छी बात नहीं है मीणा ने कहा कि मैं स्थाई विधायक नहीं हूं लेकिन बात रखना मेरा अधिकार है लेकिन मेरी बातो को नहीं सुना जा रहा है उनका कहना है उन्हें मंत्री नहीं बनना लेकिन उनकी बात को सुना जाये रमेश मीणा का कहना है उन्होंने राहुल गांधी से समय मांगा है अगर वहां भी उनकी बात नहीं सुनी जाएगी और जरूरत पड़ी तो वे इस्तीफा दे देंगे