*कोरोना के कारण मेलो एवं सवारी पर रहा प्रतिबन्ध

जोबनेर सहित आस पास के क्षेत्र में गणगौर पर्व धूमधाम से मनाया गया इस अवसर पर सुहागिन महिलाओं ने अपने पति की लंबी उम्र की कामना की तथा कुवारी लड़कियों ने इसर गणगौर की पूजा कर अच्छे वर की कामना की ।
गणगौर पर्व के पीछे मान्यता है कि इस दिन कुंवारी लड़कियां गणगौर की पूजा करती हैं तो उन्हें मनपसंद वर की प्राप्ति होती है और शादीशुदा महिलाएं यदि गणगौर पूजा करती हैं और व्रत रखती है तो उन्हें पतिप्रेम मिलता है और पति की आयु लंबी होती है इसी पावन अवसर पर जोबनेर कस्बे सहित आसपास के क्षेत्र में महिलाओं ने ईसर व गणगौर की सवारी निकाली और पूजा अर्चना की। ग्राम पंचायत आसलपुर में महिलाएं ईसर गणगौर के गीत गाती हुई निकली। महिलाएं सज धजकर कलश सिर पर रखकर अपने सुहाग की रक्षा की कामना करते हुए नजर आई। इस दौरान महिलाएं ईसर गणगौर के गीत गाती नाचती हुई नजर आई। पौराणिक मान्यता के अनुसार महिलाएं इस दिन ईसर गणगौर की पूजा करती है, और अपने परिवार की मनोकामना और अपने पति की लंबी उम्र की कामना के लिए गणगौर की पूजा करती है। इस दिन का महिलाएं बेसब्री से इंतजार करती है और इस दिन अपने सुहाग की दीर्घायु की कामना करती है। इस दौरान महिलाओं में काफी उत्साह दिखाई दिया।