Deepika Jangir:सोनिया कांग्रेस के 137वें स्थापना दिवस के मौके पर पार्टी कार्यालय पहुंची थीं। सोनिया ने जब पार्टी के झंडे की डोर खींची तो वहां एक कार्यकर्ता भी मौजूद था। उसने झंडारोहण में सोनिया की मदद करने की कोशिश की, लेकिन झंडा उनके ऊपर ही गिर पड़ा। इस घटना से वहां मौजूद सभी कांग्रेसी चौंक गए। इसके बाद एक महिला कार्यकर्ता दौड़ती हुई आई और उसने भी फ्लैग होस्टिंग में मदद की कोशिश की, लेकिन ऐसा नहीं हो पाया।

इसके बाद कार्यक्रम में मौजूद राहुल गांधी और प्रियंका गांधी ने कार्यकर्ताओं से झंडा फहराने को कहा. फिर एक कार्यकर्ता आया और झंडे वाले काफी ऊंचे पोल पर चढ़ा, लेकिन वह आधा ही ऊपर जा सका. फिर दूसरा कार्यकर्ता आया, जिसने झंडे को बांधने की कोशिश की. बाद में सीढ़ी भी मंगाई गई.

कांग्रेस स्थापना दिवस पर सोनिया गांधी ने देश और कार्यकर्ताओं के नाम संदेश भी दिया. उन्होंने केंद्र सरकार को घेरते हुए कहा कि अभी इतिहास को झुठलाया जा रहा है. कहा गया कि देश की विरासत गंगा-जमुना संस्कृति को मिटाने की नापाक कोशिश हो रही है. सोनिया ने कहा कि देश का आम नागरिक असुरक्षित और भयभीत महसूस कर रहा है और लोकतंत्र और संविधान को दरकिनार कर तानाशाही चलाई जा रही है.